Waqt Ka Pata Nahi Chalta Apno Ke Saath,

Waqt Ka Pata Nahi Chalta Apno Ke Saath,
Par Apno Ka Pata Chalta Hai Waqt Ke Saath,
Waqt Nahi Badalta Apno Ke Saath,
Par Apne Jarur Badal Jate Hain Waqt Ke Saath.


वक़्त का पता नहीं चलता अपनों के साथ,
पर अपनों का पता चलता है वक़्त के साथ,
वक़्त नहीं बदलता अपनों के साथ,
पर अपने ज़रूर बदल जाते हैं वक़्त के साथ।

Waqt Noor Ko Benoor Kar Deta Hai,

Waqt Noor Ko Benoor Kar Deta Hai,
Chhote se Zakhm Ko Nasoor Kar Deta Hai,
Kaun Chahta Hai Apno Se Dur Rehna,
Par Waqt Sabko Majboor Kar Deta Hai.


वक़्त नूर को बेनूर कर देता है,
छोटे से जख्म को नासूर कर देता है,
कौन चाहता है अपनों से दूर रहना,
पर वक़्त सबको मजबूर कर देता है।

Waqt Kahta Hai Ki Phir Na Aaunga,

Waqt Kahta Hai Ki Phir Na Aaunga,
Teri Aankhon Ko Ab Na Rulaunga,
Jeena Hai Toh Iss Pal Ko Jeele,
Shayad Main Kal Tak Na Ruk Paunga.


वक्त कहता है कि फिर नहीं आऊंगा,
तेरी आँखों को अब न रुलाऊंगा।
जीना है तो इस पल को जी ले,
शायद मैं कल तक न रुक पाऊंगा।