Jo Baat Munaasib Hai Wo Hasil Nahi Karte,

Jo Baat Munaasib Hai Wo Hasil Nahi Karte,
Jo Apni Girah Mein Hai Wo Kho Bhi Rahe Hain,
Be-ilm Bhi Hum Log Hain Gaflat Bhi Hai Teri,
Afsos Ke Andhe Bhi Hain Aur So Bhi Rahe Hain.


जो बात मुनासिब है वो हासिल नहीं करते,
जो अपनी गिरह में हैं वो खो भी रहे हैं,
बे-इल्म भी हम लोग हैं ग़फ़लत भी है तेरी,
अफ़सोस कि अंधे भी हैं और सो भी रहे हैं।

Kashti Hai Purani Magar Dariya Badal Gaya,

Kashti Hai Purani Magar Dariya Badal Gaya,
Meri Talash Ka Bhi Toh Jariya Badal Gaya,
Na Shakl Badli Na Hi Badla Mera Kirdar,
Bas Logo Ke Dekhne Ka Najariya Badal Gaya.


कश्ती है पुरानी मगर दरिया बदल गया,
मेरी तलाश का भी तो जरिया बदल गया,
न शक्ल बदली न ही बदला मेरा किरदार,
बस लोगों के देखने का नजरिया बदल गया।