Kafiron Ko Kabhi Bhi

Kafiron Ko Kabhi Bhi Jannat Nahi Milti,
Yahi SochKar Humse Mohabbat Nahi Milti,
Koi Shaakh Se Tode Tumhein Toh Toot Jana Tum,
Khud-Ba-Khud Toote Toh Izzat Nahi Milti.


काफिरों को कभी भी जन्नत नहीं मिलती,
यही सोचकर हमसे मोहब्बत नहीं मिलती,
कोई शाख से तोड़े तुम्हें तो टूट जाना तुम,
खुद-ब-खुद टूटे तो इज्जत नहीं मिलती।