Jo Baat Munaasib Hai Wo Hasil Nahi Karte,

Jo Baat Munaasib Hai Wo Hasil Nahi Karte,
Jo Apni Girah Mein Hai Wo Kho Bhi Rahe Hain,
Be-ilm Bhi Hum Log Hain Gaflat Bhi Hai Teri,
Afsos Ke Andhe Bhi Hain Aur So Bhi Rahe Hain.


जो बात मुनासिब है वो हासिल नहीं करते,
जो अपनी गिरह में हैं वो खो भी रहे हैं,
बे-इल्म भी हम लोग हैं ग़फ़लत भी है तेरी,
अफ़सोस कि अंधे भी हैं और सो भी रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *